डीजी या डीजीपी बनने में पिछड़े मप्र के आईपीएस अधिकारी,एडीजी लेवल के अफसरों की पीड़ा, दूसरे राज्य में उनके साथी बन गए DGP

भोपाल। प्रदेश में डीजी और डीजीपी बनने की दौड़ में शामिल वरिष्ठ पुलिस अधिकारी(एडीजी) इस बात से दुखी हैं कि दूसरे राज्यों में उनके बैच के अधिकारी पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) बन चुके हैं, पर वह डीजी तक नहीं बन पाए हैं।
जानकारी के अनुसार आंध्र प्रदेश, मेघालय, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र सहित कुछ राज्यों में 1992 बैच तक के पुलिस अधिकारियों को डीजीपी या डीजी बनने का अवसर मिल चुका है, पर मप्र में डीजी बनने में ही अभी उन्हें लगभग डेढ़ वर्ष लग जाएंगे। कुछ तो इसके पहले रिटायर भी हो जाएंगे।
सुधीर सक्सेना 1987 बैच के अधिकारी
प्रदेश के वर्तमान पुलिस महानिदेशक सुधीर कुमार सक्सेना 1987 बैच के हैं। कई बैच बहुत बड़े तो कई पांच से भी कम अधिकारियों के होने के कारण यह असंतुलन हुआ है। हर वर्ष लगभग बराबर पद प्रदेश सरकार केंद्र से लेती तो ऐसी स्थिति नहीं बनती। अधिकतर राज्यों में निर्धारित अवधि 30 वर्ष की सेवा पूरी होने के बाद ही डीजी या डीजीपी बनने का अवसर मिल जाता है।
विनीत कपूर 1991 बैच के अधिकारी
प्रदेश में अभी 1991 बैच के विनीत कपूर को स्पेशल डीजी इसी वर्ष जून में बनाया गया है। इस बैच के 4 अन्य अधिकारी अभी एडीजी हैं। यानी लगभग 33 वर्ष की सेवा के बाद भी डीजी रैंक पर नहीं पहुंचे हैं। इसके बाद 1992 बैच के 7 अधिकारी एडीजी हैं। इनमें कुछ तो 2025 में पदोन्नत हो जाएंगे, पर कुछ बच जाएंगे या इस पद पर पहुंचे बिना ही सेवानिवृत हो जाएंगे।
इस साल अभी 5 आईपीएस रिटायर, 8 होंगे
पुलिस महानिदेशक सुधीर सक्सेना सहित प्रदेश के 13 आईपीएस अधिकारी इस वर्ष सेवानिवृत्त होने वाले हैं। अभी तक पांच आईपीएस रिटायर हो गए हैं। उनमें सबसे पहले डीजी जेल राजेश चावला 29 फरवरी को रिटायर्ड हुए। उनकी जगह एडीजी प्रशासन विजय कटारिया को डीजी बनाया गया। सबसे वरिष्ठ आइपीएस अधिकारी स्पेशल डीजी पुरुषोत्तम शर्मा और एडीजी बीबी शर्मा 30 अप्रैल सेवानिवृत्त हुए। पुरुषोत्तम शर्मा के सेवानिवृत होने के बाद एडीजी अनुराधा शंकर स्पेशल डीजी के पद पर पदोन्नत हुई। हालांकि, वह एक माह ही स्पेशल डीजी रह पाईं और मई में सेवानिवृत्त हो गईं। डीआईजी मनीष कपूरिया 31 जनवरी को सेवानिवृत्त हो चुके हैं। अब जिन 8 आईपीएस का रिटायरमेंट होना है उनमें स्पेशल डीजी संजय झा 31 जुलाई, स्पेशल डीजी सुषमा सिंह 31 अगस्त, एडीजी राजेश कुमार गुप्ता 30 सितंबर, एडीजी अनिल कुमार गुप्ता 30 सितंबर, डीआईजी आरके हिंगणकर 31 अक्टूबर, डीजीपी सुधीर कुमार सक्सेना 30 नवंबर और आईजी महेंद्र सिंह सिकरवार 31 दिसंबर को रिटायर होंगे।