मतगणना के पहले 8 IAS,4 IPS, दो आईएफएस के विरुद्ध चुनाव आयोग पहुंचीं शिकायतें,ग्वालियर-दतिया शिवपुरी समेत अन्य जिलों के अधिकारी भी जाँच के दायरे में

भोपाल/ग्वालियर । लोकसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस ने चुनाव आयोग में 8 आईएएस, 4 आईपीएस, दो आईएफएस के विरुद्ध शिकायतें की हैं। चुनाव में सबसे अधिक 10 शिकायतें कांग्रेस ने छिंदवाड़ा कलेक्टर शीलेंद्र सिंह के खिलाफ की हैं और अब 4 जून को होने वाली मतगणना के 5 दिन पहले फिर उनके विरुद्ध चुनाव आयोग से शिकायत की गई है। इस बार छिंदवाड़ा से कांग्रेस प्रत्याशी नकुल नाथ ने चुनाव आयोग दिल्ली में कलेक्टर की कम्प्लेन की है। नाथ ने कलेक्टर को हटाने की मांग रखी है। इधर, 16 मार्च से लागू चुनाव आचार संहिता के दौरान दर्जन भर आईएएस, आईएफएस और आईपीएस अफसरों के खिलाफ नामजद शिकायतें की गईं। हालांकि, इस पूरे चुनाव में आयोग ने किसी कलेक्टर, एसपी को हटाने की कार्यवाही नहीं की है।
छिंदवाड़ा से कांग्रेस उम्मीदवार नकुल नाथ ने तीस मई को चुनाव आयोग से की गई ताजी शिकायत में कहा है कि छिंदवाड़ा कलेक्टर निष्पक्ष होकर काम नहीं कर रहे हैं। उनके द्वारा मतदाताओं को बीजेपी को सपोर्ट करने की बात कही गई है। इसके पहले चुनाव प्रचार के दौरान छिंदवाड़ा कलेक्टर शीलेंद्र सिंह के विरुद्ध कांग्रेस चुनावी सभा के लिए परमिशन देने के बाद उस स्थान पर सुरक्षा के लिहाज से परमिशन रद्द करने और एक दिन बाद उसी स्थान पर सीएम की सभा के लिए परमिशन देने के मामले में कम्प्लेन कर चुकी है। छिंदवाड़ा कलेक्टर के अलावा बालाघाट कलेक्टर गिरीश कुमार मिश्रा के विरुद्ध बालाघाट में मतदान होने के पहले तक दो-तीन शिकायतें की गई थीं। एक शिकायत जबलपुर कलेक्टर दीपक सक्सेना के विरुद्ध भी हुई थी। तीन पुलिस अधीक्षक राजेश व्यास, अभिषेक तिवारी और समीर सौरभ की भी कम्प्लेन हुई है। व्यास अलीराजपुर एसपी हैं जबकि अभिषेक सागर और सौरभ बालाघाट एसपी हैं।
अधिकांश शिकायतें पदस्थापना के विरोध में
जिन अफसरों के विरुद्ध कम्प्लेन की गई है उसमें से अधिकांश की कम्प्लेन उनकी पोस्टिंग किए जाने से संबंधित है। इसके अलावा कुछ अफसरों के विरुद्ध बीजेपी का प्रचार करने और मतदाताओं को प्रभावित करने के भी आरोप के साथ चुनाव आयोग और मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में कम्प्लेन की गई हैं।

इन आईएएस, आईपीएस और आईएफएस की शिकायत
जेएन कंसोटिया, एसीएस वन विभाग
रश्मि अरुण शमी, प्रमुख सचिव
अमित तोमर, एमडी पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी
आईएएस आलोक कुमार सिंह पूर्व पंजीयक सहकारिता
अभिजीत अग्रवाल आयुक्त आबकारी
आईपीएस उपेंद्र जैन
वन संरक्षक नर्मदापुरम अनिल कुमार शुक्ला
डीएफओ भोपाल

ये राज्य प्रशासनिक सेवा के अफसर भी जांच के घेरे में
नीतू माथुर, सीईओ स्मार्ट सिटी ग्वालियर
नीलमणि अग्निहोत्री, अपर कलेक्टर
एसडीएम पंकज मिश्रा, जबलपुर
जेपी गुप्ता डिप्टी कलेक्टर शिवपुरी
तहसीलदार ताल
एसडीएम आलोट
सोनल सेडाम, एसडीएम मंडला

इन आबकारी अफसरों की कम्प्लेन
दीपम रायचूरा, सहायक जिला आबकारी अधिकारी
प्रणय श्रीवास्तव, सहायक जिला आबकारी अधिकारी सिवनी
मनीष खरे सहायक जिला आबकारी अधिकारी इंदौर
संजय गुप्ता, सहायक जिला आबकारी अधिकारी

आरटीओ भी रहे शिकायतों में शामिल
रीवा आरटीओ मनीष त्रिपाठी
सीहोर आरटीओ
संजय तिवारी, प्रभारी आरटीओ भोपाल
देवेश बाथम, एआरटीओ, सिवनी

ये एसपीएस भी जांच के दायरे में आए
धनंजय शाह, एसपी ईओडब्ल्यू इंदौर
कर्णिक श्रीवास्तव, एसडीओपी भांडेर
महेंद्र सिंह चौहान प्रभारी डीएसपी
उमाशंकर शर्मा, एसडीओपी गोहद
महेंद्र तारणेकर, एएसपी खंडवा

इनके विरुद्ध भी चुनाव आयोग पहुंचे शिकायतकर्ता
एमएल गजभिये, उपायुक्त सहकारिता इंदौर
पीएस बरोठिया, प्रभारी उपायुक्त अशोकनगर
संयुक्त आयुक्त सहकारिता विनोद सिंह
धर्मेंद्र चौहान, खनिज अधिकारी इंदौर
अजय श्रीवास्तव, प्रभारी तहसीलदार
दीपक तिवारी प्रभारी तहसीलदार नईगढ़ी
गजेंद्र सिंह लोधी, तहसीलदार बमौरी
रमेश कोल, तहसीलदार, सिंगरौली
शत्रुध्न चौहान, तहसीलदार
कमलेश भार्गव, सीईओ जिला पंचायत दतिया