ग्वालियर में बीता था जांबाज विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान का बचपन



कुन्नूर हेलीकॉप्टर क्रैश हादसा

राजेश शुक्ला,ग्वालियर। तमिलनाडु के कुन्नूर में mi-17 हेलीकॉप्टर हादसे में सीडीएस विपिन रावत के साथ विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान की भी मौत हो गई। विंग कमांडर का बचपन ग्वालियर के थाटीपुर क्षेत्र में गुजरा था। यहां से भी आगरा शिफ्ट हो गए थे। उन्होंने अपनी शिक्षा सैनिक स्कूल रीवा से पूरी की थी। श्री चौहान जूनियर हाउस और भारत सीनियर हाउस बैच 91-98 के होनहार छात्र थे।

हेलीकॉप्टर हादसे में उनके निधन की सूचना पर ग्वालियर में उनके साथ के मित्र उदास है और बीते दिनों की यादें ताजा कर रहे हैं।

रीवा सैनिक स्कूल के पूर्व छात्र और ग्वालियर  निवासी अधिवक्ता प्रदुमन सिंह राजावत, डॉ एसपी राजावत, हर्षित आई बी और सेनोवा फैमिली ग्वालियर ने बताया कि रीवा सैनिक स्कूल में शिक्षा प्राप्त करने के दौरान पृथ्वी सिंह चौहान से हमारी अच्छी दोस्ती थी। वह काफी हैंडसम और फुर्ती से भरे रहते थे। हम उन्हें प्यार से टेडी बीयर  बुलाते थे वह हमारी बैच की शान थे। फोटोग्राफी का शौक था।

2019 में रीवा सैनिक स्कूल के पूर्व छात्रों का गेट टुगेदर भोपाल में आयोजित हुआ था जिसमें पृथ्वी सिंह चौहान पार्टी की शान थे।इस दौरान देश भर से आए अन्य साथियों ने इंजॉय किया था।

श्री राजावत ने बताया कि इस पार्टी यानी गेट टुगेदर में आशीष वर्मा ,कॉलोनल श्री तिरपाठी ,अरविंद, विंग कमांडर  पृथ्वी सिंह चौहान ,मुकेश तिर्की ,डॉ प्रमोद ,प्रकाश ,बीडी द्विवेदी. और कॉलोनल सुरजीत सोनी मुख्य रूप से मौजूद थे।

हमने तय किया था कि पूर्व छात्रों का स्नेह मिलन समारोह के साथ-साथ हम मिलने के लिए इकट्ठे होने की कवायत करेंगे।

रीवा सैनिक स्कूल से निकले अधिकतर छात्रों में सभी डिफेंस में पदस्थ हैं जिनमें सबसे ज्यादा एक्टिव विंग कमांडर पृथ्वी थे।उन दिनों में हमारी उनकी मुलाकात अक्सर थाटीपुर चौराहे पर होती थी ।वे एक बेहतरीन और जांबाज़ सैनिक सैनिक थे और उनमें हमेशा जुनून से भरा एक एहसास देखने को मिलता था।

 

रिपोर्ट के मुताबिक MI-17 हेलिकॉप्टर उड़ाने में विंग कमांडर पृथ्‍वी सिंह चौहान की दक्षता के वायुसेना के अधिकारी भी कायल थे। सूडान में विशेष ट्रेनिंग लेने के बाद पृथ्‍वी की गिनती वायुसेना के जांबाज लड़ाकू पायलट्स में होती थी।

तमिलनाडु में वायुसेना के MI-17 हेलिकॉप्टर के क्रैश होने की वजह से चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत समेत कुल 13 लोगों का निधन हो गया। जिस हेलिकॉप्टर क्रैश होने की वजह से यह हादसा हुआ, उसे आगरा के रहने वाले वायुसेना के विंग कमांडर पृथ्‍वी सिंह चौहान उड़ा रहे थे।

हेलिकॉप्टर के क्रैश करने की खबर के बाद से ही आगरा स्थित उनके घर पर रिश्‍तेदार और नातेदारों का जमावड़ा लगा हुआ और लोक परिवार को ढांढस बंधा रहे हैं.

विंग कमांडर की पत्नी कामिनी, बेटी आराध्या 12, बेटा अभिराज 9 वर्ष को अब तक विश्वास नहीं हो रहा है कि उनके पापा अब कभी घर नहीं आएंगे।

 

 

79 Replies to “ग्वालियर में बीता था जांबाज विंग कमांडर पृथ्वी सिंह चौहान का बचपन”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *