ग्वालियर: महाराज बाड़े पर हाइड्रोलिक क्रेन टूटने से नगर-निगम के तीन कर्मचरियों की मौत, मृतकों को अभी 50-50 हजार, बाद में चार लाख और परिजनों को नौकरी

मृतकों के परिजनों ने कहा-हमारा तो सब कुछ खत्म हो गया
बायलाइन24.कॉम, राजेश शुक्ला। मप्र के ग्वालियर स्थित व्यस्त रहने वाले महाराज बाड़ा पर आज शनिवार की सुबह हाइड्रोलिक क्रेन के टूटने से तीन लोगों की मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने एंबुलेंस को बुलवाया और सभी को अस्पताल पहुंचाया। मृतकों में फायरमेन कुलदीप दंडौतिया, प्रदीप राजौरिया व चौकीदार विनोद शर्मा शामिल है। बताया जाता है कि झंडा बदलने के लिए क्रेन पर जब दो लोग चढ़े थे तभी क्रेन का पटा टूट गया इससे वे नीचे आ गिरे इस दौरान नीचे खड़े व्यक्ति के उपर टूटा हुआ हिस्सा गिरने से उसकी भी मौत हो गई। घटना की जानकारी मिलने पर प्रभारी मंत्री तुलसीराम सिलावट भी मौके पर पहुंच गए। इस घटना के बाद हर तरफ अफरा-तफरी मच गई। घायलों को तत्काल नीचे लाया गया। मामले की जानकारी लगते ही पुलिस अधिकारियों के साथ ही प्रभारी नगर निगम आयुक्त मुकुल गुप्ता भी मौके पर पहुंच गए। इस घटना के बाद गुस्साए एक व्यक्ति मनोज शर्मा ने प्रभारी निगमायुक्त को चाटा मार दिया। पुलिस ने हंगामा बढ़ते देखा तो तत्काल भीड़ को दूर खदेड़कर निगम अफसरों को बाहर निकाला। प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट तुरंत महाराज बाड़ा पहुंंच गए। उन्होंने घटना की जानकारी लेने के साथ ही घायल कर्मचारी के उपचार के पर्याप्त इंतजाम करने के भी निर्देश दिए हैं।
जानकारी में सामने आया कि सुबह के समय दमकल विभाग सिटी सेंटर से चालक धमेन्द्र वर्मा हाइड्रोलिक मशीन के्रन गाड़ी नंबर एमपी07-6887 को चलाकर बाड़ा लाए। उनके साथ सहयोगी रणविजय भी साथ था। चूंकि शहर में पंद्रह अगस्त की तैयारियां जारी हैं। इसके तहत महाराज बाड़ा स्थित नगर निगम कार्यालय पर भी ध्वजारोहण की तैयारी चल रही थी। इस हाइड्रोलिक मशीन पर चढ़कर कुछ कर्मचारी इमारत पर तिरंगा लगाने के लिए चढ़े थे। इसी दौरान अचानक हाइड्रोलिक मशीन टूट गई। इस हादसे में निगम कर्मचारी कुलदीप दंडौतिया, प्रदीप राजोरिया और विनोद शर्मा ननि का चौकीदार है कि मौके पर ही मौत हो गई है। जबकि एक कर्मचारी जिसका नाम मंजर आलम है को समेत दो अन्य को गंभीर चोट आई है। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस बल एवं प्रभारी नगर निगम आयुक्त मुकुल गुप्ता मौके पर पहुंच गए। इसी बीच कुछ लोगों ने घटनास्थल पर हंगामा शुरू कर दिया।
घटना के बाद महाराज बाड़ा पर परिजनों और आसपास के लोगों ने हंगामा मचना शुरू कर दिया। यहां फड़ लगाने वाले दुकानदारों ने आरोप लगाया कि इससे पहले भी एक बाद के्रन खराब हो चुकी थी। लोगों ने पूरी गलती नगर-निगम के अधिकारियों पर इंगित की।

प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट महाराज बाड़ा पहुंच गए। यहां उनके साथ एसपी अमित सांघी और अन्य प्रशासिनक अधिकारी मौजूद रहे। यहां उन्होंने पूरा घटनाक्रम लोगों से समझा। वहीं वे जयारोग्य अस्पताल में भी पहुंचे। यहां मृतकों के परिजनों का बुरा हाल था। उन्होंने परिजनों से कहा कि आपकी हरसंभव मदद की जाएगी, और इस घटना की जांच भी बैठाई जाएगी।

बताया जाता है कि कुलदीप दंडौतिया मुरैना का रहने वाला था। वह मुरैना से रोजाना अप-डाउन करता था। वहीं प्रदीप राजोरिया और विनोद शर्मा स्थानीय थे। तीनों की मौत की सूचना जैसे ही परिजनों को लगी तो वे सन्निपात की स्थिति में आ गए। कुलदीप के परिजन भागे-भागे मुरैना से आए। वहीं अन्य मृतकों के परिजन भी अस्पताल पहुंच गए। तीनों का भरा-पूरा परिवार है।
बॉक्स

दोपहर 12:25 बजे तक सभी मृतकों के शव महाराज बाड़ा पर परिजनों ने रखकर चक्काजाम लगा दिया। मौके पर ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर ने परिजनों को 50-50 हजार रुपए, उसके बाद शासन की तरफ से चार-चार लाख रुपए और मृतकों के परिजनों को सरकारी नौकरी दी जाएगी।

18 Replies to “ग्वालियर: महाराज बाड़े पर हाइड्रोलिक क्रेन टूटने से नगर-निगम के तीन कर्मचरियों की मौत, मृतकों को अभी 50-50 हजार, बाद में चार लाख और परिजनों को नौकरी”

Comments are closed.