क्या युद्ध की गुप्त रिपोर्ट हो जानी चाहिए सार्वजनिक? रक्षा मंत्रालय के इस फैसले के बाद छिड़ रही ‘जंग’

नई दिल्ली : आजादी के बाद से भारत ने अब तक कई युद्ध लड़े हैं। युद्ध के साथ ही सैकड़ों मिशन पूरे किए गए जिनके बारे में ज्‍यादा जानकारी नहीं मिल पाई। अब सरकार ने इस बारे में पहल की है। रक्षा मंत्रालय की ओर से युद्ध और अभियानों से जुड़े इतिहास को आर्काइव करने, उन्हें गोपनीयता सूची से हटाने और उनके संग्रह से जुड़ी नीति को मंजूरी दे दी। रक्षा मंत्रालय के बयान के अनुसार युद्ध इतिहास के समय पर प्रकाशन से लोगों को घटना का सही विवरण उपलब्ध होगा। शैक्षिक अनुसंधान के लिए प्रमाणिक सामग्री उपलब्ध होगी और इससे अनावश्यक अफवाहों को दूर करने में मदद मिलेगी। कुछ रक्षा विशेषज्ञ इस फैसले को सही तो वहीं कुछ इस पर सवाल भी खड़े कर रहे हैं।

पूर्व सैन्य अधिकारी और वाटरशेड 1967 के लेखक प्रोबाल दास गुप्ता का मानना है कि यह समय पारदर्शिता का है। एक घटना का जिक्र करते हुए उन्होंने बताया कि 9 जुलाई 1971 को अमेरिकी सचिव हेनरी किसिंजर, चीनी प्रधानमंत्री झोउ एनलाई के साथ एक गुप्त बैठक के लिए पेकिंग पहुंचे। अमेरिका की ओर से यह बैठक सोवियत संघ के खिलाफ चल रहे शीत युद्ध के बीच कम्युनिस्ट चीन को अपने पाले में लाने के मकसद से की गई।

 

किसिंजर की इस यात्रा का एक मुख्य आकर्षण एक किताब भी थी जिसे झोउ ने उपहार में दी थी। किताब थी नेविल मैक्सवेल की ‘इंडिया चाइना वॉर’। मैक्सवे ने किसिंजर झोउ से कहा- इस किताब को पढ़ते हुए पता चला कि आपके साथ आगे बढ़ सकते हैं। कुछ महीने बाद जब भारत और पाकिस्तान की बीच युद्ध होता है। राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन और किसिंजर की पाकिस्तान सहयोगी चीन के प्रति सहानुभूतिपूर्ण देखने के मिली। इसमें आधार बनी मैक्सवेल की पुस्तक जिसमें 1962 भारत-चीन युद्ध के लिए भारत को जिम्मेदार ठहराया गया था।

दशकों से, भारत धारणाओं के साथ अतीत को समेटने की स्थिति से जूझ रहा है। राजनेताओं और नौकरशाहों की ओर से अक्सर उन बयानों को बंद करने के बहाने के रूप में राष्ट्रीय सुरक्षा कार्ड का इस्तेमाल किया है, जो उन घटनाओं से जुड़े राजनीतिक और सैन्य नेताओं को अधिक जांच के दायरे में लाते। युद्ध डायरी, संचार आदान-प्रदान तक अपर्याप्त पहुंच जो कठोर अनुसंधान और पूर्ण जानकारी को बाधित करती थी।

 

युद्ध इतिहास लिखने के लिए प्रामाणिक स्रोतों के न होने से विद्वान अक्सर मौखिक खातों और यूके और यूएस में अभिलेखागार पर निर्भर रहे हैं। 1999 में, कारगिल समीक्षा समिति ने पिछले पाठों का विश्लेषण करने और भविष्य की गलतियों को रोकने के लिए युद्ध के रिकॉर्ड को सार्वजनिक करने की सिफारिश की। हालांकि, नौकरशाही के पूर्वाग्रह ने प्रभावी कार्यान्वयन को रोक दिया। दो दशक बाद, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रक्षा मंत्रालय (MoD) की युद्ध के इतिहास के संग्रह, अवर्गीकरण और प्रकाशन की नीति को मंजूरी दे दी है, जो एक स्वागत

5 Replies to “क्या युद्ध की गुप्त रिपोर्ट हो जानी चाहिए सार्वजनिक? रक्षा मंत्रालय के इस फैसले के बाद छिड़ रही ‘जंग’”

  1. Hello! This post could not bbe written any better! Reading through this post reminds me of mmy good old room mate!
    He always kept chagting about this. I will forward this article to
    him. Pretty sure he will have a good read. Thank you for
    sharing!

    My web-site … soyut resim tablo

  2. Hello! I understand thjs is kind of off-topic however I had to ask.
    Does managing a well-established website such as yours take a large amount of work?
    I’m brand new to running a blog butt I do write in my diary daily.
    I’d like tto start a blog so I will be able to share my
    personal experience and thoughts online. Please let me know
    if you hazve anyy recommendations or tips for new aspiring blog owners.
    Appreciate it!

    My website dumanbet

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *